Best Tips To Control Your High Blood Pressure in Hindi

2656

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए दिल का स्वस्थ होना बहुत जरूरी है। लेकिन वर्त्तमान समय में अनियमित खान-पान व अनियमित दिनचर्या के कारण उच्च रक्तचाप और निम्न रक्तचाप की समस्या बढ रही है। सामान्यत ब्लड प्रेशर 120/80 होता हे । किसी के शरीर में रक्त प्रवाह सामान्य से कम (80 से कम) हो जाता है तो उसे Low Blood Pressure कहते हैं औंर अगर यह रक्त प्रवाह 130 से बढ जाता है तो इसे उच्च रक्तचाप यानि High Blood Pressure कहते है।

उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure) की स्थिति में-

  1. धमनियों में रक्त का दबाव बढने से रक्त प्रवाह बढ़ जाता है, इसे सामान्य लाने के लिए दिल को सामान्य से अधिक काम करने की आवश्यकता पड़ती है ।
  2. दिल की धडकन बढ़ जाती है जिसके कारण उल्टी, सिर दर्द व चिड़चिड़ापन शुरू हो जाता है ।
  3. कुछ लोग इसे नजरअंदाज करते रहते हैं तो कई डॉक्टरों के चककर लगाते रहते हैं। हम कुछ घरेलू उपाय अपनाकर इस पर काफी सीमा तक कंट्रोल कर सकते हैं।

उच्च रक्तचाप के भयानक दुष्प्रभाव-

इसके लम्बे समय तक कोई प्रभाव दिखाई नही देते जिससे इसका हमे जल्दी पता नही लग पाता परन्तु कुछ उपरी विशेष लक्षणों से इसका पता लगाया जा सकता हैं। यह धीरे से शरीर को नुकसान पहुँचाता रहता हैं जैसे दिल(Heart), गुर्दे(Kidney) और मस्तिष्क(Brain) को भी नुकसान पहुँचा सकता हैं। हर समय टेंशन बनी रहती हैं किसी भी काम में मन नही लग पाता। हमे कई बार बहुत गुस्सा भी आता हैं जिसका बेव्जय कोई न कोई शिकार हो जाता हैं कई बार गुस्से मे गलत कर बैठते हैं। धमनियों में रक्त का दबाव बढने से हमे दिल का दौरा(Heart Attack), दिल का विफल होना(Heart Failure), रक्ताघात हो जाना, गुर्दे का ठीक से काम न करना(Kidney Failure) और लकवा जैसी समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए इसका समय रहते इलाज सम्भव हैं।

1. लहसुन-

लहसुन आपके शरीर में कॉलेस्ट्रॉल का स्तर कम करता है, इससे आपका दिल हमेशा सेहतमंद रहता हैं। इसके और भी बहुत से फायदे होते हैं। यह कई रोगों के उपचार में काम आता हैं। लहसुन ब्लड प्रेशर ठीक करने में बहुत मददगार घरेलू वस्तु है। यह रक्त का थक्का नहीं जमने देती है।

“उच्च रक्तचाप की समस्या मे सुबह खाली पेट लहसुन की साबुत 5 से 6 कली पानी के साथ लेना बहुत चमत्कारी तरीके से काम करती हैं।”

2. नमक का सेवन कम करे-

नमक का अधिक सेवन करने से उच्च रक्तचाप का खतरा बढ जाता है। रक्तचाप कम करने के लिए अपने भोजन में नमक की मात्रा कम करनी चाहिए । डॉक्टरों का मानना हैं कि नमक में मौजूद सोडियम की अधिक मात्रा उच्च-रक्तचाप का कारण होती है ।

3. आलू का सेवन-

आहार में पोटेशियम युक्त फलों व सब्जियों को शामिल करने से आप रक्तचाप को कम कर सकते हैं । पोटेस्थिम की कुछ नियमित मात्रा के सेवन से आप स्वयं को उच्च रक्तचाप से दूर रख सकते हैं । आलू के साथ-साथ शकरकंदी, टमाटर, सन्तरे का रस, केला, राजमा, नाशपाती, किशमिश, सूखे मेवे और तरबूज आदि में पोटेशियम काफी मात्रा में पाया जाता है।

4. संगीत-

संगीत आपके रक्तचाप को कम करने में मदद करता है । यदि आप धीमी आवाज़ में मधुर संगीत सुनें तो आपको उच्च रक्तचाप मे आराम मिलता है । रूहानी भजन जहां आपको शारीरिक स्फूर्ति प्रदान करेंगे, वहीं आपकी आत्मा को भी ताजगी प्रदान करेंगे।

5. आराम-

बेशक जीवन में कामयाबी के लिए काम करना जरूरी है लेकिन आराम की अहमियत को नजरअंदाज नहीं करन चाहिए। दिन-रात्त पैसे बनाने की मशीन की तरह लगे रहना आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक हो सकता हैं। कम से कम 5-8 घण्टे की नींद अवश्य लें। खान-पान- अपने आहार में दुध, दही, हरी-सब्जियां, सेब, सलाद को अवश्य शामिल करना चाहिए ।

6. ब्लैक टी-

ब्लैक टी का सेवन भी लाभदायक होता है।

ब्लेक टी बनाने की विधि-

एक कप में आधा चम्मच चाय पत्ती डालें। अब गैस पर पानी उबाले और कप में चाय पत्ती के ऊपर यह पानी डाल दे । दो मिनट तक ढक के रखें । इसमे दुध का प्रयोग बिलकुल ना करें । यह स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here