हल्दी को Curcumin Long के रूप में भी जाना जाता है। यह एक बहुत ही आम जड़ी बूटी है। हल्‍दी न केवल एक मसाला है, बल्कि इसमें कई औषधीय गुण भी हैं। दुनिया भर में लोग खाना पकाने में इस जड़ी बूटी का उपयोग करते हैं।

अमेरिकन केमिकल सोसायटी के जर्नल के अनुसार, हल्दी मे एंटीऑक्सिडेंट, एंटीवायरल, जीवाणुरोधी गुण शामिल है।

यह विटामिन C, विटामिन E, पोटेशियम, कैल्शियम, तांबा, लोहा, मैग्नीशियम और जस्ता के रूप में कई स्वस्थ पोषक तत्वों के साथ भरी हुई है। इन सभी कारकों के कारण, हल्दी को अक्सर स्वास्थ्य समस्याओं की एक विस्तृत विविधता के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है।

1. कैंसर  से  बचाव

कैंसर से बचने और कैंसर के प्रभाव को कम करने में हल्दी एक कारगर दवाई का कार्य करती है। खाली पेट हल्दी का सेवन शरीर को अंदर से साफ रखता है। कैंसर की रोकथाम के लिए हल्दी की गोलियों में नीम को मिलाकर सेवन करने से शरीर से कैंसर की कोशिकाएं खत्म होकर बाहर निकलने लगती है।

2. मधुमेह नियंत्रण

डायबिटीज के रोगियों को हल्दी का सेवन किसी न किसी तरह से जरूर करना चाहिए। हल्दी डायबिटीज से होने वाले घावों को जल्दी भर देती है।

3. कोलेस्ट्रॉल  नियंत्रण

शोध से पता चला है कि हल्दी को मसाले के रूप में प्रयोग करने मात्र से ही हम कोलेस्ट्रॉल के स्तर को काफी हद तक कम कर सकते हैं। हम सबको पता है कि उच्च कोलेस्ट्रॉल कई अन्य गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकता है। एक उचित कोलेस्ट्रॉल का स्तर हमे कई हृदय रोगों से बचा सकता है

4. मोटापा  नियंत्रण

हल्दी के प्रयोग करने से वजन को नियत्रित किया जा सकता है। हल्दी शरीर में जमा फैट्स को कम करती है साथ ही इसमे मौजूद गुण आपके वजन को घटाते हैं।

5. अल्जाइमर रोग से बचाव

यह सामान्यत 60 वर्ष से ज्यादा आयु के व्यक्तियों में पाया जाने वाला सबसे भयानक रोग है। इसमें मस्तिष्क में सूजन आ जाती हैं। इस रोग में मनुष्य की यादाश्त शक्ति कम होने लगती हैं। हल्दी अल्ज़ाइमर रोग को रोकने या कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

6. पाचन  तंत्र  मजबूत  करना

हल्दी में बहुत सारे लाभकारी तत्व होते हैं। जो हमारे पाचन तंत्र को मजबूत बनाते हैं यह खाने को पचाने में भी बहुत सहायक होती हैं।

7. लीवर  संबंधी  समस्‍याओं  में  लाभकारी

मसाले के रूप में प्रयोग की जाने वाली हल्‍दी का सही मात्रा में प्रयोग पेट में जलन एवं अल्‍सर की समस्‍या को दूर करने में बहुत ही लाभकारी होता है। हल्दी का पीला रंग कुरकमिन नामक अवयव के कारण होता है और यही चिकित्सा में प्रभावी होता है। चिकित्सा क्षेत्र के मुताबिक Curcumin पेट की बीमारियों जैसे जलन एवं अल्सर में काफी प्रभावी रहा है। लीवर की तकलीफों से निजात पाने के लिए हल्‍दी बेहद उपयोगी होती है। यह रक्त दोष दूर करती है। हल्‍दी नैसर्गिक तौर पर ऐसे एन्‍जाइम्‍स का उत्‍पादन बढ़ाती है जिससे लीवर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद मिलती है।

8. अनचाहे  बाल  हटाएं

अगर आप अनचाहे बालों से परेशान है तो हल्‍दी का प्रयोग करें। अनचाहे बालों को हटाने के लिए हल्दी पाउडर को गुनगुने नारियल तेल में मिलाकर पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को अनचाहे बालों पर लगाएं। इस उपाय से शरीर के अनचाहे बाल धीरे-धीरे हट जाते हैं और त्‍वचा कोमल हो जाती हैं।

9. दाग - धब्‍बों  से  छुटकारा

हल्दी वाला दूध पीने से चेहरा चमकदार बनता है। इसके अलावा आप हल्दी वाले दूध में रूई को भिगोकर अपने चेहरे पर भी लगा सकते हैं। उम्र बढ़ने के साथ यदि झुर्रियां आने लगी हों। तो आप हल्दी को खाने के अलावा उसके पेस्ट को चेहरे पर लगाएं। यह चेहरे में निखार और सुंदरता लाता है।

10. अंदरूनी  चोट  में  सहायक

हल्दी वाला दूध पीने से आपकी हड्डियां मजबूत होती है साथ ही हल्दी में मौजूद एंटिओक्सीडेंट आपको हड्डियो में होने वाली समस्याओं से भी बचाते हैं। चोट लगने से घाव बन गया हो या फिर मोच आ गई हो तो आप हल्दी के पेस्ट बनाकर उसको चोट वाली जगह पर बांधने से चोट से होने वाला संक्रमण खत्म हो जाता है। हल्दी वाले दूध के सेवन से भी चोट भीतर से ठीक होने लगती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here